an online Instagram web viewer

Images at Andheri West

-किसने कहा नहीं सुनते, मैंने देखा है दुआएँ क़ुबूल होते।
-फिर वो ईश्वर की ख़ुदकी मर्ज़ी रही होगी। और तुम्हारी इच्छाएँ भी उसकी मर्ज़ी होगी। लेकिन हाँ अक्सर हमें ऐसा भ्रम हो जाता है कि हमारी इक्षाएँ हैं।
-अच्छा तुम मुझे ये बताओ कि अगर भगवान ने अपनी कोई इच्छा पूरी करने के लिए मेरे अंदर वो इच्छा डाल दिया फिर उसे पूरा भी कर दिया तो इच्छा पूरी किसकी हुई?
-पहले तो भगवान की। -पर बाद में मेरी भी तो हुई ना। लेकिन, तुम ये बताओ तुम इतना विपरीत कैसे सोचने लग गयी, तुम तो कभी इस तरह से नहीं सोचती थी।
-मैं विपरीत नहीं सोच रही बस सच कह रही हूँ। ऐसी बातें कहने का मतलब यह नहीं कि मेरी उम्मीदी ख़त्म हो गयी हैं। “सेक्रेड गेम्स” के एपिसोड की तरह बिलकुल भी नहीं हूँ। मुझे पता है मेरी आग़ोश में लोग सपने लेके आते हैं। उनमें से ज़्यादातर सपने टूट जाते हैं, लेकिन जो कुछ भी पूरे होते हैं वह इसी वजह से कि मैं कभी हार नहीं मानती।
-बिलकुल, तुनहरी तरफ़ से अवसाद वाली बातें सुनके सच में लगने लगता है जैसे क्या कर लूँ पता नहीं। फिर वो गाना याद आने लगता है...
-गाना?
-अरे वो गाना - हम थे जिनके सहारे, वो हुए ना हमारे...।
-अच्छा! हो गया तुम्हारा?
-मेरा क्या होगा? -सो जाओ देर बहुत हो गयी है।
-सो जाऊँगा... बस आ हीं रहा... बाहें खोल के रखना।
-ड्रामेबाज़।
- (भास्कर विश्वनाथन)
#storyoftheday #story #kahani @atrangeere #thoughts #mumbai #dreams #hindi #writer #hindiwriters #blog #blogger #lifelessons #instawrite #instablog #instagood #writercommunity #instawriter #evening #daydreamer #storyteller #hindistan #hindiwriter #hindicommunity #bhaskervishwanathan #etrangere
-किसने कहा नहीं सुनते, मैंने देखा है दुआएँ क़ुबूल होते। -फिर वो ईश्वर की ख़ुदकी मर्ज़ी रही होगी। और तुम्हारी इच्छाएँ भी उसकी मर्ज़ी होगी। लेकिन हाँ अक्सर हमें ऐसा भ्रम हो जाता है कि हमारी इक्षाएँ हैं। -अच्छा तुम मुझे ये बताओ कि अगर भगवान ने अपनी कोई इच्छा पूरी करने के लिए मेरे अंदर वो इच्छा डाल दिया फिर उसे पूरा भी कर दिया तो इच्छा पूरी किसकी हुई? -पहले तो भगवान की। -पर बाद में मेरी भी तो हुई ना। लेकिन, तुम ये बताओ तुम इतना विपरीत कैसे सोचने लग गयी, तुम तो कभी इस तरह से नहीं सोचती थी। -मैं विपरीत नहीं सोच रही बस सच कह रही हूँ। ऐसी बातें कहने का मतलब यह नहीं कि मेरी उम्मीदी ख़त्म हो गयी हैं। “सेक्रेड गेम्स” के एपिसोड की तरह बिलकुल भी नहीं हूँ। मुझे पता है मेरी आग़ोश में लोग सपने लेके आते हैं। उनमें से ज़्यादातर सपने टूट जाते हैं, लेकिन जो कुछ भी पूरे होते हैं वह इसी वजह से कि मैं कभी हार नहीं मानती। -बिलकुल, तुनहरी तरफ़ से अवसाद वाली बातें सुनके सच में लगने लगता है जैसे क्या कर लूँ पता नहीं। फिर वो गाना याद आने लगता है... -गाना? -अरे वो गाना - हम थे जिनके सहारे, वो हुए ना हमारे...। -अच्छा! हो गया तुम्हारा? -मेरा क्या होगा? -सो जाओ देर बहुत हो गयी है। -सो जाऊँगा... बस आ हीं रहा... बाहें खोल के रखना। -ड्रामेबाज़। - (भास्कर विश्वनाथन) #storyoftheday  #story  #kahani  @atrangeere #thoughts  #mumbai  #dreams  #hindi  #writer  #hindiwriters  #blog  #blogger  #lifelessons  #instawrite  #instablog  #instagood  #writercommunity  #instawriter  #evening  #daydreamer  #storyteller  #hindistan  #hindiwriter  #hindicommunity  #bhaskervishwanathan  #etrangere